Bluetooth 5.1 क्या है और इसमें क्या क्या बदलाव है ?

0

टेक्नोलॉजी चाहे जितना भी एडवांस क्यूँ न हो जाए उसे और ज्यादा बेहतर जरुर किया जा सकता है | ब्लूटूथ सबसे अहम् टेक्नोलॉजी में से एक है जिसे बेहतर करने का जरुरत है | और ब्लूटूथ के इस लेटेस्ट वर्शन से ये लग रहा है की ये सही दिशा में जा रहा है | ब्लूटूथ 5.1 आ चूका है और इसमें कई तरीको से सुधार किया गया है | Bluetooth 5.1 kya hai ?

ब्लूटूथ 5.1 में ऐसे कई सारे सुधार को लाया गया है जिससे आपको खुश होना चाहिए लेकिन हर डिवाइस में इसका सपोर्ट आने में थोड़ा समय लग सकता है | अगर आपके डिवाइस में ये अभी तक नहीं आया है तो आपके पास इंतज़ार करने के अलावा कोई दूसरा उपाय नहीं है | आप इससे क्या क्या कर सकते है वो हम बताने वाले है |

Bluetooth 5.1 Kya hai ?

Bluetooth 5.1 ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी का लेटेस्ट वर्शन है जिससे आप कम दुरी पर एक डिवाइस से दुसरे डिवाइस में डाटा ट्रान्सफर कर सकते है | ये टेक्नोलॉजी का एक अहम् हिस्सा है जिससे हम हेडफोन , स्पीकर और अन्य डिवाइस को कनेक्ट कर सकते है |

ये बात का ध्यान रखे की आपके डिवाइस में जब ब्लूटूथ 5.1 का सुविधा दे दिया जाएगा तो भी ये कोई काम का नहीं होगा अगर आपका सभी उपकरण इसका साथ कम्पेटिबल न हो | तो इसके लिए जरुरी है की आपका डिवाइस इस लेटेस्ट वर्शन के साथ कम्पेटिबल होना चाहिए |

New Direction Finding

ब्लूटूथ 5.1 में दिशा ढूंडने का 2 तरीका दिया गया है – पहला Angle of Arrival (AoA) और दूसरा Angle of Departure (AoD) | इसका मतलब ये किसी उपकरण की सटीक स्थिति को निर्धारित कर सकता है ( मतलब किस दिशा से सिग्नल आ रहा है ) | इसके काम करने के लिए रिसीवर या ट्रांसमीटर के पास Antenna का एक बैच होना चाहिए | 

अभी तक , ब्लूटूथ केवल सिग्नल कितना मजबूत है उसके आधार पर ये अनुमान लगा सकता था की डिवाइस कितनी दूर तक कनेक्ट कर सकता है | इसमें सुधार आना उन लोगो के लिए एक बेहतरीन खबर है जो हमेशा अपना Bluetooth Earphones को खो देते थे क्यूँकी अब आपका Audio Device का Exact Location का पता आपको चल जाएगा |

Improved GATT Caching 

यदि कुछ बदल जाता है , तो नई सेवा की खोज की जाती है | यदि सब कुछ समान रहता है, तो सेवा खोज वाले हिस्से को  छोड़ दिया जाता है, और कनेक्शन तेज़ होता है | Bluetooth 5.1 में GAAT (Generic Attribute Profile) caching enhancements में सुधार कर दिया गया है जिससे कनेक्शन तेज़ होगा और पॉवर भी बचेगा | 

डिवाइस विज्ञापन करेगा की ये कनेक्ट होने के लिए उपलब्द है 

जो डिवाइस आपके डिवाइस के साथ कनेक्ट नहीं होना चाहता , उसके साथ कनेक्ट करने का प्रयास करना समय का बर्बादी है | क्यूंकि हमे पता नहीं होता की हम उस डिवाइस के साथ कब तक कनेक्ट कर पाएँगे , इसलिए हम कनेक्ट करने का प्रयास करते रहते है | Bluetooth 5.1 में Randomized Advertising Channel Indexing नाम का एक नया फीचर है |

इस फीचर की मदद से हम सिर्फ उसी डिवाइस के साथ कनेक्ट कर सकते है जो उपलब्द होगा | इस फीचर की मदद से आपका बैटरी पॉवर भी बचेगा क्यूंकि आपके डिवाइस को पता चल जाएगा की दूसरा डिवाइस कनेक्ट होने के लिए तैयार है |

ये फीचर उस जगह पर सबसे ज्यादा उपयोगी होगा जहाँ बहुत सारा ब्लूटूथ डिवाइस ये ऐलान करता है की वे कनेक्ट होने को तैयार है |

Conclusion 

Bluetooth 5.1 में बहुत ज्यादा सुधार नहीं किया गया है लेकिन जो भी सुधार इसमें किया गया है वो बहुत ही उपयोगी साबित होगा | क्या आप इस नए बदलाव से खुश है ? अपनी राय कमेंट में जरुर दे |

Must Read Article :

1. Wired vs Wireless – कौन सा Mouse आपके लिए सही है ?

2. Bloatware क्या है और ये फोन में क्यूँ Installed रहता है ?

3. IMEI Number क्या है और इसे कैसे पता करे ?

4. 502 Bad Gateway Error क्या है ( और इसे Fix कैसे करे )?