Apple Products इतना ज्यादा महंगा क्यूँ होता है?

0

iPhones का कीमत हमेशा से ही Android Phones से ज्यादा रहता है| इसका कुछ कारण है जैसे की- Apple सिर्फ अपने iPhones का Hardware ही नहीं बनाता है बल्कि वो साथ में iPhones का Software भी बनाता है| Apple पुरे User Interface को खुद से ही नियंत्रण करता है| बहुत पहले से Apple का Competitors जैसे Samsung अपना Handset को खुद से ही बनाता है, लेकिन वे Software के लिए Google Operating System का उपयोग करते है|

Apple iPhone को हमेशा से High-End Product माना जाता है और ये लोगो के लिए उनका Status Symbol है| मतलब iPhones को खरीदकर लोग अपना अमीरी को दर्शाते है| इसका मतलब ये है अमीर लोग iPhones का कोई Features देखे बिना ही इसके लिए भारी कीमत अदा करने को तैयार है| और आज के समय में iPhones दुनिया का सबसे ज्यादा Profit करने वाला Product है|

हमलोग ये बात तो जानते ही है की iPhones के साथ साथ Apple का हर एक Product महंगा होता है| तो इसी के विषय में हम आज जानेंगे की Apple का सभी Products इतना ज्यादा महंगा क्यूँ होता है|

कुछ लोगो का मानना है की Apple सिर्फ Monopoly का गेम खेल रहा है| लेकिन ये 100% सच नहीं है|

निचे हम जानते है की Apple Products इतना महंगा क्यूँ होता है?

7 कारण जिसके वजह से Apple Products इतना महंगा होता है

1. History

जब Steve Jobs, Apple Inc में वापस आए तब इस कंपनी का हालत काफी ख़राब था| लगातार 5-7 सालो से ज्यादातर Apple Products में गिरावट आ रहा था|

उस समय Dell और IBM, Apple का Competitors था| और Apple ने Personal Computer के मामले में Market Share खोना शुरू कर दिया था|

तब उसके बाद Steve Jobs ने नया Products लाना शुरू किया जो लोगो के Social Status का Symbol बना| इस तरह Apple अन्य Companies से अलग है|

फिर Apple ने महंगा कीमत का Premium Quality का Computer (iMac) लोगो को प्रदान करना शुरू किया|

2. Research and Development Cost

Apple Insider के रिपोर्ट के मुताबिक़ 2018 में Research और Development पर $10 अरब खर्च किया|

और Apple ने 2017 में Research और Development पर $11.58 अरब खर्च किया था|

इसी Research और Development में हुए खर्च को Maintain करने के लिए Apple के Products का कीमत बढ़ जाता है|

और दूसरी तरफ अन्य Companies, Research और Development पर काफी कम पैसे खर्च करता है|

3. Product Line

हमने इस Topic पर बहुत सारे सूत्रों के आधार पर Research किया है|

Apple Company का 60% के आसपास Revenue सिर्फ iPhone से ही आता है| तो इसका मतलब है की कंपनी iPhones पर बहुत ज्यादा निर्भर है|

लेकिन इसका मतलब ये नहीं है की ये Apple के कमाई का एकलौता जरिया है| Apple फिलहाल Trillion Dollar Company है| पैसे कमाने के लिए Apple के पास iPhones के अलावा भी कई सारे Sources है|

लेकिन फिर भी 60% एक बहुत बड़ा संख्या होता है| इस वजह से इस Product का कीमत इतना महंगा होता है|

4. Profit Margin

Apple का iPhone में Profit Margin 60% है| ये किसी भी Smartphone Company के लिए बहुत ही बड़ा संख्या है|

उदाहरण के तौर पर, अगर हमने iPhone X को $1000 में खरीदा तो Apple का Profit इसमें $600 के आसपास होगा|

5. Closed System

Apple के हर एक Products का अपना खुद का Closed System होता है| इसका मतलब ये है की Apple (iOS और Mac OS) का Operating System किसी भी दुसरे Non-Apple Device में नहीं चल सकता है|

इसलिए हम ऐसा मान सकते है की ये Apple के DNA में है|

Closed System रखने के कारण Research और Development में बहुत ज्यादा खर्चा होता है|

6. Security

Apple के Devices में World-class security software होता है|

Windows, Android और Linux operating systems अभी तक Apple के Security Level को हरा नहीं पाया है|

सुरक्षा के मामले में Apple को कोई भी Operating System मात नहीं दे पाता है|

ये किसी भी दुसरे System से ज्यादा सुरक्षा प्रदान करते है| इसलिए वे अपने Products को काफी महंगा बेचते है|

7. Premium Look

कंपनी का मानना है की अगर लोग उनके Products के लिए महंगा से महंगा कीमत देने को तैयार है, तो ये जरुरी है की Products दिखने में Premium लगना चाहिए|

अगर हम किसी पुराने Apple Products का भी उदाहरण दे जैसे की iPhone 5s, तब भी दुसरे Phones के मुकाबले iPhones काफी ज्यादा Premium लगता है|