Invisible Web क्या है और इसका जरुरत क्यूँ पड़ता है?

0

Invisible Web को Deep Web और Hidden Web के नाम से भी जाना जाता है और ये Web का वो Section है जिसे ज्यादातर Search Engines अपने Results में नहीं दिखाता है| इस शब्द का ख़ास करके ये मतलब है की ये सब Content ज्यादातर लोगो से छुपा हुवा है|

Invisible Web को Deep Web के नाम से भी जाना जाता है और इसमें वो सब जानकारी होता है जिसे Search Engine के द्वारा Search या Index नहीं किया जा सकता है| उदाहरण के तौर पर, Financial Information जो Online में Stored रहता है, Scientific Knowledge का Database, और Medical या Legal Records जो Internet में Stored रहता है|

और इसके लिए उस Technology का उपयोग किया जाता है जो Search Engine को Block कर देता है ताकि इन जानकारियों को Search Results में नहीं दिखाया जा सके| हालाकि आप Deep Web Sites को Google के जरिए से नहीं ढूंड सकते, लेकिन आप इसे Invisible web search tools के मदद से जरुर इसका पता लगा सकते है|

Invisible Web कितना बड़ा है?

जो Web Content हमें General search engine queries से मिलता है उसके मुकाबले में Invisible Web हज़ारो गुना बड़ा है| एक अनुमान के मुताबिक़ Internet में जितना भी Web Pages उपलब्द है उसमे से Search Engine के पास 0.5% से भी कम Web Pages का Access है|

Internet में Trillions (खरबों) की संख्या में Web Pages उपलब्द है, तो इससे ये साफ़ है की बहुत बड़े संख्या में Unsearchable pages मौजूद है, जो इंतज़ार कर रहे है की कोई उसे Access करे|

Invisible Web में क्या क्या शामिल है?

आपको ये जानकार हैरानी होगा की Invisible Web में क्या क्या चीज़े शामिल है| निचे Web Pages का कुछ उदाहरण दिया गया है जो Invisible Web का हिस्सा है|

1. Online banking accounts

2. Email Messages

3. Social Media Pages

4. Forums और अन्य Communities

5. Government Records

6. Web Archives

7. Digital Goods

8. Subscription पर आधारित Video और Music streaming services

9. Web Pages जो CAPTCHAs का उपयोग करते है

इसके बारे में अगर आप ध्यान से सोचे तो, जब भी आप अपने Personal account information को Access करने के लिए किसी Website में Login करते है, तब आप Deep Web में “Sign In” कर रहे है| आप Web के एक पार्ट तक पहुँचने के लिए एक बहुत विशिष्ट साधन का उपयोग कर रहे हैं जहाँ पर कोई Search Engine नहीं पहुँच सकता है|

Invisible Web सिर्फ Password-protected content तक ही सीमीत नहीं है| साथ में Invisible Web में वो Websites और Web Pages भी होता है जिसे उसका मालिक नहीं चाहता की उसे कोई भी Search Engine के द्वारा Crawl किया जाए| कोई भी Website का मालिक Search Engine को निर्देश दे सकता है की उनके कुछ Web Pages या सभी Web Pages को Crawl नहीं किया जाए|

Web के इस हिस्से को Invisible Web क्यूँ कहा जाता है?

इस शब्द को पहली बार 1994 में सुनने को मिला था, और ये उन Websites के बारे में उल्लेख करता था जो Search Engine के साथ रजिस्टर्ड नहीं है| अगर Search Engine को उस Website के बारे में पता नहीं होता, तो उसे Invisible कहा जाता था| आज के समय में Websites को Search Engine में Submit करने का जरुरत नहीं पड़ता है, क्यूंकि Search Engines ये काम खुद कर लेता है|

Spiders एक छोटा सा Software Programs होता है, और ये पुरे Web में चक्कर लगाता है, और जो Pages का Adress उसे मिलता है उन सबको Index करता है| जब ये Programs, Invisible Web के किसी Pages पर चलता है, और ये नहीं जानते की उसके साथ क्या करना है, तब Spiders उस Web Pages के Adress को Record कर लेता है, लेकिन Spiders कभी ये Access नहीं कर पाता है की Pages में क्या क्या जानकारी मौजूद है|

Invisible Web जरुरी क्यूँ है?

ज्यादातर Users का मानना है की Google और Yahoo में Internet का सभी जानकारी मिल जाता है और उन्हें किसी अन्य चीजों का जरुरत नहीं है| लेकिन एक Standard Search Engine में हर चीज़ का मिल पाना आसान नहीं है ख़ास करके जब आप किसी Complicated चीजों को Search कर रहे है|

ऐसा मान लीजिए की Web एक बहुत बड़ा Library है| आप Library में जाते है और ऐसा नहीं होगा की अन्दर जाते है आप जिस चीज़ को ढूंडने आए है वो आपको पहले टेबल पर ही मिल जाएगा| हो सकता है आप जो किताब को ढूंड रहे है उसके लिए आपको पूरा Library को छान मारना होगा| ठीक उसी तरह जहाँ पर Search Engine आपका मदद नहीं कर पाता है वहाँ पर आपका मदद Invisible Web करता है|

Fact, ये है की Search Engine वैसे तो सिर्फ Web के एक छोटे से हिस्से को Search करता है, जिसके कारण Invisible Web हमारे लिए काफी फायदेमंद होता है| Invisible Web में इतना जानकारी है जितना हम सोच भी नहीं सकते है|

Dark Web से ये कैसे अलग है?

Dark Web में ज्यादातर गैरकानूनी Information, Product और Services होता है जिसमे किसी Average Users को ज्यादा दिलचस्पी नहीं होता है| Dark Web वैसे तो Deep Web का एक छोटा सा हिस्सा है, लेकिन इसे Access करना भी काफी मुश्किल है| आपको Dark Web में जाने के लिए किसी विशेष Browser का जरुरत पड़ेगा|

यह Browser से विशेष Protocol का उपयोग करके आपको Web Pages में जाने का अनुमति देता है, और इस सिस्टम का उपयोग एक Normal Web Browser नहीं करता है| Surface Web या Deep Web के मुकाबले Dark Web में जाने के लिए थोड़ा ज्यादा Computer का ज्ञान होना जरुरी है|

हम Dark Web और Deep Web को एक समुद्र मान लेते है| बिना किसी परेशानी के कोई भी व्यक्ति समुद्र के सतह को आसानी से Access कर सकता है लेकिन आपको समुद्र के गहराई तक जाने के लिए किसी ख़ास Tools का जरुरत पड़ेगा जहाँ पर विचित्र जीव रहते होंगे| गहराई में जाने के लिए आपको एकदम अलग Set Up का जरुरत पड़ेगा जैसे (Scuba gear या फिर Special vessel), क्यूंकि उस Level तक जाने का कोई दूसरा तरीका नहीं है| सनुद्र के हिसाब से समुद्र का गहराई की Dark Web है|

Invisible Web का उपयोग कैसे करे?

Dark Web के Hidden Web Pages को Access करने के लिए Special Software का जरुरत पड़ता है, लेकिन Invisible Web को आसानी से देखा जा सकता है अगर आपके पास सही Tools मौजूद है| अगर आप Invisible Web में किसी Site का पता लगा लेते हो, तब ये दुसरे Sites के तरह ही काम करता है|